X

आधुनिक भारतीय नारी पर निबंध हिंदी में (भारत समाज में नारी का स्थान)

आधुनिक भारतीय नारी पर निबंध

आधुनिक भारतीय नारी पर निबंध हिंदी में: प्राचीनकाल से लेकर आधुनिक काल तक भारत एवं समस्त विश्व ने समाज में नारी का स्थान अलग अलग दिया है बहरहाल हमने यहाँ नारी पर निबंध हिंदी भाषा मे प्रस्तुत किया है। यह Essay on Modern Indian Women देश के हर व्यक्ति को पढ़ना चाहिए।

यदि आप एक हिंदी मीडियम के स्टूडेंट है तो आपको यह भारतीय महिला पर निबंध बहुत अधिक उपयोगी होने वाला है। आगे हमने नारी पर निबंध रुपरेखा सहित लेख पेश किया है।

आधुनिक भारतीय नारी पर निबंध

नारी पर निबंध की रुपरेखा

  1. प्रस्तावना
  2. प्राचीनकाल में नारी
  3. मध्यकाल में नारी
  4. आधुनिक काल में नारी
  5. पाश्चात्य सभ्यता
  6. उपसंहार।

यहाँ पढ़े> कंप्यूटर का निबंध

प्रस्तावना

नारी के बिना दुनिया एवं मानवता की कल्पना करना भी संभव नहीं है। नारी माता है, बहन है, पत्नी है, बेटी एवं इत्यादि है। जो अनेक रूपों में समाज में रहती है। आधुनिक समाज में नारी शक्ति ववण्डर समान भयंकर रुप ले रही है। नारी सदा से श्रेष्ठ है।

प्राचीनकाल में नारी

वैदिक काल में नहत्वपूर्ण स्थान था। आध्यात्मिक एवं धार्मिक क्षेत्र में भी नारी की भूमिका अंग्रणी थी। सीता, अनसुया, गार्गी एवं सावित्री इसकी प्रत्यक्ष उदहारण है। इनके नाम इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखे हुए है।

मध्यकाल में नारी

मध्युग में नारी के गौरव का ह्रास हुआ। कबीर, तुलसी आदि संतो ने नारी को विकार ताड़ना का पात्र ठहराया।

आधुनिक काल में नारी

राष्ट्रीय एवं सामाजिक चेतना जाग्रत होने वर्तमान में नारी की दशा में सुधर हुआ है। राजा राममोहन रे एवं दयानन्द ने भारतीय नारी को पुरुष के समकक्ष होने के अधिकार से संपन्न कराया। उसके लिए शिक्षा द्वार खोले।

पाश्चात्य सभ्यता

पाश्चत्य सभ्यता के फ़लस्वरूप आज भारतीय नारी अपने प्राचीन आदर्शो और मान्यताओं को तिलांजलि दे रही है। भोग-विलास, मौज-मस्ती एवं खाओ-पीओ का के कुपथ का अनुगमन कर रही है। करुणा, ममता, कोमलता एवं स्नेह को त्यागकर अपनी इमेज को धूमिल कर रही है। आर्थिक दृस्टि से स्वतंत्र होने के वजह से नारी आज विलासिता की ओर उन्मुख है।

नारी पर निबंध का उपसंहार

अतः आज इस बात की परम आवश्यकता है कि भारतीय नारी को वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पाश्चत्य सभ्यता का अंधानुकरण न करके उत्तम आदर्शो एवं मान्यताओं को स्वीकार करना चाहिए। ऐसा होने पर वह ऐसा स्थान प्राप्त कर सकेगी जो देवों के लिए भी दुर्लभ है।

हमें उम्मीद है आपको यह लेख काफी उपयोगी रहा होगा अतः इस आधुनिक भारतीय नारी पर निबंध को सोशल मीडिया पर शेयर अवश्य करे।

This post was last modified on June 28, 2022 4:41 pm

Lakshya Narbariya:

View Comments (1)

  • बहुत ही अच्छा लगा पढ़कर, ऐसा महसूस कर रहा हूं, कि दुनिया में कुछ अच्छा ही करना चाहिए, थैंक्स narbariya.com

Related Post